बंद करे

भूगोलिक परिस्थितियाँ

लाहौल की घाटी लद्दाख के दक्षिण में स्थित है|इसी कारण से यह जगह “दक्षिणी देश” जिसका नाम लोह्यल है।इसके दक्षिण में कुल्लू की सुंदर घाटी को रोहतांग पास (31 9 5 मीटर) और आसाख पास (5051 मेटर्टर) भर में बारा बंगाहल (कांगड़ा) में स्थित है। इसकी पश्चिमी सीमाएं जिले के पंगी और चराह क्षेत्रों को छूती हैं। चंबा।इसके उत्तर में क्रमशः शिंगोला (50 9 0 मीटर) और बारलाछा ला (5450 मीटर) में ज़ांस्कर और लद्दाख की घाटियां खड़ी हुईं।इसकी पूर्वी और दक्षिण पूर्वी सीमाएं स्पिटी और पश्चिमी तिब्बत के उन लोगों के साथ होती हैं जो कुन्ज़ोम दर्रा (4500 मीटर) के पार होती हैं।

जलवायु

घाटी में बारिश छाया क्षेत्र में स्थित है , पीर पंजाल के उत्तर पर्वतमाला मौसम सुखद और अर्थात मई से गर्मियों के दौरान काफी सहज है, मध्य अक्टूबर के लिए यह इस घाटी का दौरा करने के लिए सबसे अच्छा मौसम है। यहाँ शायद ही कभी बारिश होती है, और बुध स्तर 300 सेल्सियस से अधिक नहीं है और कभी नीचे सेल्सियस अवधि ऊपर उल्लेख के माध्यम से बाहर हो जाता है।  यहाँ हमेशा हरे भरे घाटी के भीतर भटक व चमकदार धूप का आनंद सकता है । यहाँ   बहुत कम या मानसून में बारिश होती है । जलवायु शुष्क और स्फूर्तिदायक रहता है। दिन गरम होते हैं  और रातें बेहद ठंडी होती हैं  । सर्दियों के दौरान, यानी कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण नवंबर से अप्रैल तक शून्य से नीचे चला जाता है जिस कारण यहाँ पर औसतन बर्फबारी 7 फुट तक  हो जाती है ।

यात्रा के लिए उच्त्तम समय

लाहुल घाटी में सबसे उच्तम समय गर्मियों के दौरान है जो की मई माह से  लेकर अक्टूबर तक है l